Skip to content

(2022)क्रिप्टोकरेन्सी क्या है ?| What is Cryptocurrency in Hindi 2022 

Introduction

हमने हमारे अगले आर्टिकल में मेटावर्स, NFT ये सब के बारेमे समझा। इन सभी आर्टिकल में एक शब्द बहुत ज्यादा बार देखा “cryptocurrency”। आज कल बहुत सारी क्रिप्टोकरेन्सी है जैसे की बिटकॉइन, एथेरेयम, डोजकॉइन, मैटिक वगेरा। अपने पिछले कुछ दिनो से ये शब्द बहुत बार सुना होगा। आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे की क्रिप्टोकरेन्सी क्या है, कैसे काम करती है, उसके फायदे और नुकसान क्या क्या है, भारत में क्रिप्टोकरेन्सि क्या क्या हाल है ? इस सभी प्रश्न को सरल भाषा में समझेंगे। 

क्या है क्रिप्टोकरेन्सी ? | What is cryptocurrency in Hindi

जब समाज की शुरुआत हुई तब लोग चीज के बदले चीज लेते थे जैसे अगर कोई किसान है और उसको खेत जोतने के लिए बेल चाहिए तो वो गेहू या चावल के बदले में बेल लेते थे। पर यहाँ एक दिक्कत थी की अगर जो आदमी बेल बेचता है उसको गेहू की या चावल की जरुरत  नहीं है तो किसान बेल खरीद नहीं सकता। इसी दिक्कत के कारन सिक्को का उपयोग होना शुरू हुआ। क्योकि यह सिक्के सोने या चांदी के थे और इसकी कोई एक किंमत पहले से नक्की थी इसी लिए सबने इसका उपयोग करना शुरू किया। उसके बाद शुरुआत हुई बैंक की और सरकार का मुद्रा पर कंट्रोल आ गया। यहाँ पर शुरुआत हुई नॉट(paper money) की और इसकी किंमत सोने या चांदी की वजह से नहीं सरकार ने इसकी किंमत नक्की की। अब जैसे जैसे टेक्नोलॉजी की प्रगति हुई लोगो ने चीजे ऑनलाइन खरीदना शुरू किया और पेमेंट भी ऑनलाइन करना सुरु किया जहा हमे गेहू या चावल, सोने या चांदी के सिक्के और नोट की जरुरत नहीं पड़ती। 

हम अगर बिटकॉइन की बात करें तो ये 100%  वर्चुअल कॉइन है जो हम एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर करते है। cryptocurrency में सभी ट्रांसक्शन की detail एक लेजर में स्टोर होती है। अगर हम बात करें रुपये की तो उसकी value सरकार के हाथ में है, जैसे हमने कुछ साल पहले देखा की सरकार ने 500 और 1000 की नोट को रातोरात बेन कर दिया था।  इसका मतलब जिस नॉट की किंमत हजार या पांचसो थी उसकी किंमत 0 हो गई। क्रिप्टोकरेन्सी ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित है जिसका मतलब है की इसको कोई एक व्यक्ति या आर्गेनाइजेशन कंट्रोल नहीं कर सकती। ये कॉन्सेप्ट की शुरुआत Satoshi Nakamoto नाम के एक इन्शान ने 2008 में की थी और उसने एक क्रिप्टोकरेन्सी बनायीं जो आज बिटकॉइन के नाम से जानी जाती है। 

अगर आप ऑनलाइन पेमेंट एप्प  जैसे GPay, Phonepay वगेरे का उपयोग करते है तो कभी कभी आपने एक दिक्कत देखि होंगी की बैंक का सर्वर डाउन है। जिसकी वजह से आप आपके ही पैसे का आपको जब जरुरत है तब उपयोग नहीं कर सकते क्योकि बैंक का सर्वर डाउन है। क्रिप्टोकरेन्सी में ये दिक्कत आपको होगी क्योकि कोई बैंक इसको नहीं चलाती इसको पूरा नेटवर्क  चलत्ता है। 

मेटावर्स के बारेंमे जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें :- https://sbmeta.tech/metaverse-explained-in-hindi/

क्रिप्टोकरेन्सी कैसे काम करती है ? | How cryptocurrency works in Hindi

जैसे हमने देखा क्रिप्टोकरेन्सी को सरकार, कोई organization या कोई एक आदमी कण्ट्रोल नहीं कर सकता। क्रिप्टोकरेन्सी ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर काम करती है। ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी को हम सरल भाषा में समजे तो उसमे ब्लॉक होते है और एक ब्लॉक में आपका डाटा, hash और previous hash स्टोर होता, ऐसे बहुत सारे ब्लॉक को मिलाकर एक चैन बनती है। 

१. Mining 

  • क्रिप्टोकरेन्सी generate करने के लिए जो प्रक्रिया(प्रोसेस) होती है उसको माइनिंग कहते है और जो माइनिंग करते है उसको माइनर कहते है। यह थोड़ी जटिल प्रक्रिया है। जो माइनर होते है उनको गणित की कुछ पहेली को हल करना होता है जो specially equiped कंप्यूटर की मदद से होता है। ये काम करने के उनको पैसे मिलते है। 

२. Buying, selling और storing 

  • आज यूजर क्रिप्टोकरेन्सी को crypto exchanges या किसी क्रिप्टोकरेन्सी owner से खरीद यह बेच सकते है। WazirX, CoinDCX crypto exchenges है जो इंडिया के है और  इसका उपयोग भी आसान है। आप क्रिप्टोकरेन्सी को खरीदने के बाद store भी कर सकते है। 

३. लेन-देन या निवेश | Invest

  • Bitcoin और ethereum जैसे क्रिप्टोकरेन्सी एक वॉलेट से दूसरे वॉलेट में सरलता से ट्रांसफर हो सकते है और वो भी मोबाइल का उपयोग करके। एक बार क्रिप्टोकरेन्सी को खरीद ने के बाद आप उसका कोई चीज खरीदने के लिए, ट्रेड करने के लिए, या आप उसको पैसे से exchange करने के लिए उपयोग कर सकते है। 

क्रिप्टोकरेन्सी ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर काम करती है अगर आपको जानना है ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी क्या है और कैसे काम करती है आप इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते है:- https://sbmeta.tech/blockchain-technology-in-hindi/ 

Pros and Cons of Cryptocurrency

Pros 👍Cons 👎 
Decentralized यह क्रिप्टोकरेन्सी का सबसे बड़ा फायदा है। इसको कोई एक आदमी या संगठन नहीं चला सकता इसको एक नेटवर्क चलता है जीसके कारण ब्लॉकचैन को कोई हैक नहीं कर सकता।एक और से देखे तो क्रिप्टोकरेन्सी पूरी तरह से decentralized नहीं है बड़े बड़े लोग जिसके पास बहुत सारा पैसा है वो ज्यादा क्रिप्टोकरेन्सी own करते है। अगर वो  एक साथ क्रिप्टोकरेन्सी को बेचे तो इसका भाव बहुत ज्यादा गिर सकता है जिसकी वजह से आम आदमी जिसने इन्ही बड़े बड़े लोगो को देख कर पैसे इसमें इन्वेस्ट करे  है उनको नुकशान हो सकता है। 
Environment आजकल बहुत सारे क्रिप्टो माइनर सुद्ध energy का उपयोग करते है जैसे सोलर या पवनचक्की। यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैम्ब्रिज के एक survey के अनुसार क्रिप्टो माइन करने के लिए 40% renewable energy का उपयोग होता है। क्रिप्टोकरेन्सी को माइन करने के लिए बहुत सारे कंप्यूटर की जरुरत होती है और यह कंप्यूटर दिन रात चालू रहते है जिसकी वजह से बहुत सारी energy का उपयोग होता है। यह नंबर जैसे बिटकॉइन की किंमत बढ़ती है वैसे वैसे बढ़ता है और energy का उपयोग भी बढ़ता है। जो कंप्यूटर दिन रात चलते है वो भी कभी न कभी तो ख़राब होंगे जिसकी वजह से इ-वेस्ट बढ़ता है। 
Scam इसके उपर सरकार का कोई कण्ट्रोल नहीं है जिसके कारन सरकार के कोई ख़राब फेसले का इसके ऊपर कोई असर नहीं होता। Venezuela नाम के एक देश में वह की सरकार के गलत फेसले के कारन वहा की currency जिसकी किंमत 2020 में 1 venezuelan bolivar = 7 इंडियन रुपया थी उसकी किंमत आज 1 venezuelan bolivar = 0.00014 रुपया है। पर हम क्रिप्टोकरेन्सी की बात करें तो इसकी किंमत किसी सरकार के हाथ में नहीं है। आजकल बहुत सारी क्रिप्टोकरेन्सी है। कुछ क्रिप्टोकरेन्सी scam भी है। अगर हम कुछ समय पहले की बात करे squid game coin जो एक OTT series squid game प्रेरित था। इसमें बहुत सारे लोगो ने इन्वेस्ट किया था पर इसके creator ने 10 मिनिट में ही 3.36 मिलियन $ किंमत के सारे squid coin बेच दिए जिसकी वजह से 10 मिनिट में ही इस coin की किंमत 0 के बराबर हो गई। 

क्रिप्टो बिल 2022 | Crypto bill 2022 in Hindi

कुछ साल पहले बहुत सारे देश की सरकार क्रिप्टोकरेन्सी का स्वीकार नहीं कर रही थी। कुछ देश की सरकार ने क्रिप्टोकरेन्सी को बेन कर दिया था। आज ऐसा नहीं है बहोत सारे देश में अभी क्रिप्टोकरेन्सी क़ानूनी है जैसे El salvador। पर हम अब देखेंगे भारत में जो हाल ही में 2022 का क्रिप्टो बिल आया है उसमे कोन कोन सी चीजे है। अभी ये बिल एप्लीकेबल भी हो चूका है 1st April 2022 से। 

  1. अगर कोई वर्चुअल मुद्रा यानी क्रिप्टोकरेन्सी से एक financial year में प्रॉफिट करता है तो उसका 30% टैक्स सरकार को देना होगा। एक उदहारण से समझते है, आप 1000 रूपए की क्रिप्टोकरेन्सी खरीदते हो अगर आप उस क्रिप्टोकरेन्सी को 1100 रुपए में बेचते हो तो आपको 30 रुपए सरकार को टेक्स के रूप में देना होगा पर यहाँ पर आप अगर उस क्रिप्टोकरेन्सी को 900 रुपए में बेचते हो तो लॉस आपको भुगतना होगा। 

अगर आपको financial year 2020 में लॉस होता है और financial year 2021 में प्रॉफिट होता है तो आप financial year 2020 का लॉस को financial year 2021 में नहीं गीन सकते। इसका मतलब है की अगर आपको financial year 2020 में 100 रुपए का लॉस होता है और financial year 2021 में 200 रुपए का प्रॉफिट होता है तो आप financial year 2020 में 100 रुपए का लोस हुआ है उसको financial year 2021 में जो 200 रुपए का प्रॉफिट हुआ है उसमे से बाद नहीं कर सकते। सरल भाषा में आपको 200 रुपए मेसे ही टैक्स देना होगा। 

  1. क्रिप्टो टेक्स आपके क्रिप्टो को बेचने के बाद जो प्रॉफिट होता है उसमे से ही भरना होगा। एक उदहारण से देखते है की अगर आप को 200 रुपए का प्रॉफिट होता है और आप 50 रुपए एक क्रिप्टोकरेन्सी का कोर्स लेने में खर्च कर देते हो तो यहाँ आपको 150 रुपए मेसे टैक्स नहीं देना आपको टेक्स 200 रुपए मेसे ही देना होगा। 
  2. आपके मम्मी-पापा या भाई-बहन मतलब आपका जिनके साथ खून का रिस्ता है वो आपको अगर क्रिप्टो गिफ्ट के रूप में देते है तो उसमे 1% टेक्स लगेगा जब की अगर आपको वो फिजिकल या बैंक में पैसे देते तो उसमे टेक्स नहीं लगता। 
  3. भारत के finance minister Nirmala Sitharaman ने ये भी कहा है की भारत सरकार 2023 तक खुदकी एक वर्चुअल करेन्सी यानि क्रिप्टोकरेन्सी का परिचय देंगी और इसका नाम होगा “Central Bank Digital Currency (CBDC)” जो ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित होगी। 

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने देखा की क्रिप्टोकरेन्सी क्या है और  कैसे काम करती है, हमने crypto bill 2022 को भी सरल भाषा में समझा। कुछ साल पहले क्रिप्टोकरेन्सी को कई देश स्वीकार नहीं कर रहे थे पर आज बहुत सारे देश इसको स्वीकार कर रहे है और भारत सरकार भी खुदकी क्रिप्टोकरेन्सी बना रही है। भारत ही नहीं US, Bahamas, स्वीडेन, चीन जैसे देश भी खुदकी क्रिप्टोकरेन्सी बनाने में लगे है। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा और उपयोगी लगा हो तो आप अपने दोस्त और रिस्तेदार के साथ यह आर्टिक्ल शेयर करें। मिलते है अगले आर्टिकल के साथ।  

क्या भारत में क्रिप्टोकरेन्सी बेन है ? | Is cryptocurrency is ban in india ?

नहीं, भारत में क्रिप्टोकरेन्सी लीगल है।

सीबीडीसी का फुल फॉर्म क्या है? | What is the full form of CBDC in Hindi

सेन्ट्रल बैंक डिजिटल करेन्सी | Central Bank Digital Currency

सीबीडीसी क्या है? | What CBDC in Hindi

यह एक डिजिटल करेन्सी होगी जो सरकार चलायेगी।

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published.